Two Brothers Story

Two Brothers Story in hindi

एक गांव जिसका नाम जानकापुर ,वहा पर दो भाई थे ,जिनका नाम पवन लाल और अमनलाल था,अमनलाल छोटा भाई और पवनलाल बड़ा भाई थे,पवनलाल अमनलाल को बहुत मानता था,लेकिन अमनलाल पवनलाल को नहीं मानता था,दोनों अलग -२ रहते थे एक ही घर में ,पवनलाल के यहाँ उनकी पत्नी और बेटी शैली थी, अमनलाल के यहाँ उनका पुत्र राजू और पत्नी थी,कुछ दिन बाद पवनलाल की मृत्यु
हो गयी। ।तो उनके यहाँ फिर बेटी और पत्नी रही ,दोनों का हैंडपंप एक ही था,पानी दोनों एक ही जगह से लेते थे, पानी के लिए रोज लड़ाई होती थी, मई- जून के महीने में पानी के लिए दिक्कत होती थी।
एक बार हैंडपंप पर राजू नहाने के लिए आया तो पानी नहीं आ रहा था, तो उसने अपनी माँ से खा पानी नहीं आ रहा है, तो उसकी माँ के कहा बाल्टी में पानी रखा है, उस से नहा लो, तो वह बोला की उस पानी से शैली ने नहा लिया , तो उनके यहाँ पानी के लिए लड़ाई हो गयी , शाम को जब अमनलाल आया काम से तो उसकी पत्नी ने उसके खूब कान भर दिए ,अमनलाल ने फिर उन दोनों को घर से ही निकल दिया ,बोला जब भैय्या पवनलाल नहीं रहे तो तुम दोनों का यहाँ क्या काम है अब।


फिर शैली और उसकी माँ गांव छोड़कर जाने लगे ,तो रस्ते में एक जगह पर शैली की माँ बेहोश हो गयी तो , शैली ने चारो तरफ पानी के लिए इधर-उधर खोज किया किया ,कही पानी नहीं मिला ,एक जगह हैंडपंप मिला ,लेकिन उसमे हत्था नहीं था, फिर शैली ने एक बड़ा सा डंडा लेकर हत्था बना लिया,फिर एक घंटे बाद प्रयास करने के बाद उसमे से चालने से सोना निकला ,तो उस सोना लाकर माँ के पास उसने रखा ,उसके बाद एक आदमी घोड़े से जा रहा था,जो की एक घुड़सवार था, उसकी मदद से उसने माँ को अस्पताल ले गयी ,बदले में जो सोना लिए थी उसको घुड़सवार को दे दिया , फिर माँ ठीक हो गयी ,फिर वही पर हैंडपंप के पास शैली ने अपना झोपड़ी बना लिया ,जरुरत के हिसाब से हैंडपंप से सोना निकालती थी, फिर उसको बाजार में बेच देती थी, कुछ दिन बाद शैली के शादी घुड़सवार के साथ हो जाती थी,काफी धन भर जाता है घर में ,सारी सुबिधाये हो जाती है घर में ,सब ख़ुशी पूर्वक रहते है।


फिर एक बार बार में टहलते राजू ने घुड़सवार के साथ शैली को देखा,तो सोचा ये लोग कैसे इतने अमीर हो गये ,हम लोग तो इनको घर से निकाल दिया था, फिर सब आकर अपने पापा को बताता है, फिर रा त को पापा के साथ राजू उनके घर जाकर सारी जानकारी ले लेता है ,फिर अगली रात वह अपने परिवार के साथ एक बैलगाड़ी पर हैंडपंप से सोना भर लेता है,फिर भर कर जैसे ही घर को आता है,की रास्ते में डाकू मिलते है, और उन सब को मार के सारा सोना लूट लेते है, उधर शैली का परिवार बड़े खुसी से घर पर रहता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*